त्र्यंबकेश्वर

trimbakeshwar temple

त्र्यंबकेश्वर के बारे में

त्र्यंबकेश्वर यह त्रिंबक शहर में एक प्राचीन हिंदू मंदिर है, यह भारत मे महाराष्ट्र राज्‍य के नासिक शहर से 28 किमी दुर है| यह मंदीर भगवान शिव को समर्पित है और शिवजी के बारह ज्‍योर्तीलींग मे से एक है| यह स्‍थल गोदावरी नदी के उद्गम स्‍थान से भी जाना जाता है जो प्रायद्वीपीय भारत में सबसे लंबी नदी है। गोदावरी नदी को हिंदू धर्म मे पवित्र माना जाता है। जो ब्रम्‍हगीरी पहाड़ों से निकलके राजमहेंद्रु के पास समुद्र मिलती है। तिर्थराज कुशावर्त को नदी गोदावरी का प्रतीकात्मक मूल माना जाता है और एक पवित्र स्नान जगह के रूप में हिंदुओं द्वारा प्रतिष्ठित है।

सन १९५५-१७६८ में श्री. नानासाहेब पेशवेजी ने यहाँ पर हेमाड पंथी शैली में त्र्यंबकेश्वर मंदिर का निर्माण किया. इस मंदिर का विस्तार, पूर्व-पश्चिम से २७० फिट और दक्षिण-उत्तर से २१७ फीट है. यह मंदिर पूर्वाभिमुख है और चारों बाजुओं से पत्थर की मजबूत दीवारों से घिरा हुवा है. मंदिर के सर्वोच्च शिखर पर पांच स्वर्ण कलश है. और पंचधातु से बना केसरिया ध्वज है. मंदिर के अन्दर प्रवेश करते ही आप को विप्रों द्वारा किया जा रहा मन्त्र पठन सुनाई देता है. यह वातावरण अत्यंत धार्मिक एवम् आनंददाई होता है. मंदिर के गर्भ गृह में शिव जी का पिंड है. उस पिंड के मध्य में अंगूठे के आकार के तीन उभार है. उन्हें ब्रम्हा, विष्णु और महेश के नाम से जाना जाता है. उन में से महेश के उभार से निरंतर गंगा जल रिसता रहता है.

पेशवे जी ने मंदिर को रत्नजडित स्वर्ण मुकुट भेट किया था. उस मुकुट को हर सोमवार मंदिर के विश्वस्त कार्यालय में देखा जा सकता है. मंदिर के पास भगवान् शिवजी का पंचमुखी मुखौटा है. उसे हर सोमवार के दिन और महाशिवरात्रि के दिन पालकी में रख कर कुशावर्त तीर्थ में स्नान के लिए ले जाया जाता है. और उस के बाद उस मुखौटे को बड़े सन्मान से शिवजी के पिंड के ऊपर विराजमान किया जाता है.

1

शिवस्वरुप ब्रम्हागिरी

ब्रम्हागिरी पर्वत समुद्र सतह से ४२४८ फीट और त्र्यंबकेश्वर ग़ाव से १८०० फीट ऊंचाई पर है. पर्वत के पांच शिखरों को सद्योजात, वामदेव, इशान, हापरे और तत्पुरुष इन नामों से जाना जाता है. सन १९०८ में श्री लालचंद नशिदानंद भांगडी और श्री सेठ गणेशदास देविदास गज्जर इन दो पंजाबी भाइयो ने २ लाख रुपये खर्च कर के ५०० सीडीया और भक्त गण के लिये धर्मशाला का निर्माण किया. यादव काल मी ब्रम्हगिरी पर्वत को गिरी दुर्ग नाम से जाना जाता था. यह यादवों का गिरी दुर्ग सन १७५० में निजाम के कब्जे में था. और बाद में इसे शाहजहाँ ने काबिज कर लिया. पेशवे काल में इस कीले की हालत बहुत अच्छी हुवा करती थी. इसी ब्रम्हागिरी पर गौतमी और वैतारना इन नदियों का उद्गम स्थान है.

2

गंगाद्वार

ब्रम्हागिरी पर्वत पर्वत के बीचो बीच गंगाद्वार स्थित है. इ.स. १९०७ से १९१८ के दरमियाँ, कच्छ के रहिवासी, सेठ करमासी हंसराज इन्होने गंगाद्वार के लिए ७५० पत्थर की सीडियों और पदपथ का निर्माण किया. पर्वत पर गोरक्षनाथ गुफा में गौतम ऋषि ने निर्माण किये हुवे १०८ शिवलिंग मौजूद है.

3

वराह कुंड

पाताल लोक में हिरण्याक्ष नमक दैत्य रहेता था जिस से समस्त लोक भयभीत थे. उस हिरण्याक्ष का वध करने के लिए भगवान विष्णु ने वराह अवतार धारण किया. और उस के वध के पश्चात् उन्होंने इस कुंड में स्नान किया. और इस तरह यह कुंड का वराह कुंड के नाम से प्रसिद्ध्ह हुवा.

4

गोरक्षनाथ गुफ़ा

यह गुफ़ा का नाम श्री गोरक्षनाथ जी के नाम से पड़ा है. गोरक्षनाथ जी ग्यारहवी सदी के प्रभावी व्यक्तियों में से एक थे. उन्हों ने स्थापना की. उन्हों ने अपनी साधना से भक्ति युग का निर्माण किया. उन्हों ने अपने प्रभावी वक्तित्व से अंधश्राद्ध और गलत रीती रिवाजों के खिलाफ जन जागरण किया. गोरक्ष नाथ जी ने अपनी समाधी के समय अपने नाथ पंथ की धरोहर को संत श्री निवृत्ति नाथजी को सौप दी.

5

संत निवृत्ति नाथ समाधी मंदिर

संत निवृत्ति नाथ जी का समाधी स्थल भी त्र्यंबकेश्वर में स्थित है. निवृत्ति नाथ जी नाथ पंथ के सर्जक थे. वह संत ज्ञानेश्वर जी के अग्रज बंधू थे. पौराणिक कथा के अनुसार संत ज्ञानेश्वर जी के समाधी के तुरंत बाद उन कि बहन मुक्ता के साथ वह तीर्थयात्रा पर करने चले गए. राह में भीषण तूफ़ान में उन्होंने अपनी बहन को खो दिया. उस के कई साल बाद उन्होंने त्र्यबकेश्वर में समाधी ग्रहण की. उनकी समाधी की जगह पर मंदिर बनाया गया है.

6

नील पर्वत

नील पर्वत यह टीला ग़ाव की उत्तर की और स्थित है. नील्पर्वत पर माता नीलाम्बिका और माता मटंबा के मंदिर है. जिस में माता की नैसर्गिक मूर्तिया बसी हुई है. और थोडा ऊपर जाने पर भगवान दत्तात्रय का मंदिर है. और उस के पीछे भगवान नीलकंठेश्वर महादेव का मंदिर है. नील पर्वत पर दशनाम पंचायती आखाडा भी है, जो नागा दिगंबर सधुओंका निवास स्थान है.

7

गंगा सागर

गंगासागर नाम से गाव में एक बहुत बड़ा तालाब है. जो गाव के रहेवासीयों की पानी की जरूरत पूरी करता है. यह पानी शुद्धीकरण के बाद गाव वालों को उपलब्ध किया जाता है. श्री राजा बहादुर ने इ.स. १६०० में यह तालाब ७५००० रूपये खर्च कर के बनवाया था.

8

गौतम तालाब

झाँसी के रहिवासी, श्री पंडित ने ५००० रुपये खर्च कर के इस तालाब का निर्माण किया. यह तालाब ६००० फीट पूर्व-पश्चिम और ४००० फीट उत्तर-दक्षिण में फैला हुआ है.

9

इंद्र तालाब

इस तालाब का निर्माण श्री विष्णु महादेव गद्रे जी ने इ.स. १७०० में २२००० रुपये खर्च कर के किया था. इस के बिलकुल बाजु में भगवान इन्द्रेश्वर का मंदिर है. (यह मंदिर पंडित महेंद्र बापूजी धारणे जी के घर के बिलकुल पीछे है.)

10

तीर्थराज कुशावर्त

कुशावर्त एक पवित्र तीर्थ है. इस तीर्थ का निर्माण इ.स. १९९०-९१ में इन्दोर के मराठा राज्यकर्ते और होलकर खानदान के श्री रावजी आबाजी परनेकर जी ने ८ लाख रुपये खर्च कर के किया. इस का आकार पूर्व पश्चिम में ९४ फीट और उत्तर दक्षिण में ८५ फीट है.
पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस कुंड में नहाने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है. मृत्यु पश्चात् कैलाश पर्वत पर भगवान शंकर के चरणों में स्थान मिलता है.

11

श्री गंगा गोदावरी मंदिर

यह मंदिर कुशावर्त तीर्थ के पास स्थित है. यह मंदिर का निर्माण शुक्ल यजूर्वेदीय ब्राम्हण समाज ने किया है. हर साल के १ से १२ नवम्बर के दरमियाँ गंगा गोदावरी का उत्सव मनाया जाता है.

त्र्यंबकेश्वर मंदिर समय, त्र्यंबकेश्वर का इतिहास, त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग, त्र्यंबकेश्वर पूजा, त्र्यंबकेश्वर रहते दर्शन, त्र्यंबकेश्वर मंदिर की आधिकारिक वेबसाइट, त्र्यंबकेश्वर होटल, त्र्यंबकेश्वर चित्र, 12 ज्योतिर्लिंग चित्र, 12 ज्योतिर्लिंग मंत्र, 12 ज्योतिर्लिंग का नक्शा, ज्योतिर्लिंग कहानी, 12 ज्योतिर्लिंग एचडी छवियां, ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंगा 2018 में कालसर्प पूजा, कालसर्प पूजा, 2018 में नाशिक में पंडित, त्र्यंबकेश्वर में कलदर्शक योग पूजा की लागत, त्र्यंबकेश्वर पूजा की तिथि 2018, त्र्यंबकेश्वर कालसर्प पूजा पंडित, हिंदी में कालसर्प योग, हिंदी में कालसर्प योग प्रकार, कालसर्प के प्रभाव, कालसर्प योग पूजा, कालसर्प दोष निवारण विधी, कालसर्प दोष अभिनयन मंत्र, कुंडली में कालसर्प की दीक्षा, कालसर्प योग कैलकुलेटर,कालसर्प योग कैलकुलेटर, कालसर्प योग और उपाय के प्रकार, कालसर्प दोष का अर्थ है, कैसे कालसर्प दोष से छुटकारा पाने के लिए, कालसर्प योग अंतिम रूप से कब तक, कालसर्प योग पूजा, कालसर्प दर्शन, नवीन मंत्र, कालसर्प पूजा प्रक्रिया, सावधानियां कालसर्प पूजा, कालसर्प पूजा के लाभों के बाद, कालसर्प पूजा के लाभों में हिंदी में, कालसर्प दो पूजा की लागत, कालसर्प दो पूजा स्थल, कालसर्प पूजा के बाद सावधानियां, कालसर्प दोष पूजा समाधि,कालसर्प दोष निवारण पूजा,कालसर्प दोष कुंडली,कालसर्प दोष निवारण पूजा मुहूर्त,कालसर्प दोष कैसे पाएं मुक्ति,कालसर्प दोष से क्या होता है,काल सर्प दोष इफ़ेक्ट व मैरिज,कालसर्प मंत्र,कालसर्प शांती,कालसर्प दोष उपाय रत्न, प्रकार के कालसर्प योग और उपाय, कालसर्प दोष उपचार लाल कीताब, कैसे कालसर्प दोष से छुटकारा पाना, शादी पर कालसर्प योग प्रभाव, कालसर्प दोष निवारण मंत्र, कालसर्प योग कैलकुलेटर, कालसर्प दोष, विवाह पर हिंदी में,त्र्यंबकेश्वर में नारायण नागबली पूजा , नारायण नागबली के नियम, नारायण नागबली प्रक्रिया, जो नारायण नागबली कर सकते हैं, नारायण नागबली पूजा की तारीखें, नारायण नागबली पूजा में मराठी, नारायण नागबली पूजा प्रभार, नारायण नागबली पूजा 2018, नारायण नागबली पूजा, हिंदी में नारायण नागबली पूजा शुल्क, नारायण नागबली पूजा तिथियां, नारायण नागबली पूजा में मराठी, नारायण नागबली पूजा की तिथियां 2018, नारायण नागबली के नियम, आप नारायण बाली पूजा कहाँ कर सकते हैं,गोरकर में नारायण बाली पूजा, श्रीरंगपट्ट में नारायण बाली पूजा, त्र्यंबकेश्वर पर नारायण नागबली पूजा की लागत, नारायण नागबली पूजा की तिथियां, नारायण नागबली पूजा की तारीखें 2018, नारायण नागबली पूजा में मराठी, नारायण नागबली, नारायण बाली पूजा लागत गोकर्ण में आप नारायण बाली पूजा करते हैं, नारायण नागबली की तिथि 2018, नारायण नागबली पूजा में हिंदी में,त्र्यंबकेश्वर में पितृदोष पूजा, पितृदोष पूजा मुहूर्त, नासिक में पितृदोष पूजा, पितृदोष पूजा की तारीखें 2018, पितृदोष पूजा की लागत, जहां पितृदोष पूजा है, पितृदोष पूजा 2018, पाषाण देव पूजा में नाशिक, कैसे घर पर पितृदोष पूजा करें, पीढ़ा दोष उपचार, लाल किताब के पितृदोष उपचार,पितृदोष विवाह के लिए उपचार, पितृदोष निवाराण, पितृदोष नवरन मंदिरों, कैसे पितृदोष की पहचान कर सकते हैं, पीतरदोष परिवारहम, पितृदोष उपचार, हिंदी में लाल किताब, पितृदोष के लिए कुल हिंदी में त्रिपिंडी श्राद्ध, हिंदी में त्रिपिंडी श्राद्ध विधी, हिंदी में त्रीपिंडी श्राद्ध पूजा की लागत, त्रिपिंडी श्राद्ध, मराठी में, त्रिपिंडी श्राद्ध दिनांक 2018, यात्रा में क्या बात है, तिवारी की यात्रा में यात्रा, वाराणसी में त्रिपिंडी श्राद्ध, हिंदी में त्रिपिंडी श्राद्ध, त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा की लागत, सवाल तिहरी, त्रिपिंडी शिंती, हिंदी में पूजा, त्रिपिंडी्दिनी की तारीख 2018, हिमा में तिहरी की तिहाड़, तिरुपल्ली में यात्रा विधी, तिरुपल्ली की पूजा, तिरुपती की पूजा, प्रश्न तिहरी की यात्रा, हिंदी में ट्रिपलिंह विधी, क्या त्रिपिंडी दोष, त्रिपिंडी शिंती, श्राद्ध में मराठी, त्रिपिंडी श्राद्ध में नाशिक,रुद्र अभिषेक पूजा के लाभ, रुद्र अभिषेक पूजा मंत्र, घर में रुद्र अभिषेक, रुद्र अभिषेक मंत्र पीडीएफ, रुद्र अभिषेक एमपी 3, अर्थात् रुद्र अभिषेक, रुद्र अभिषेक विकी, रुद्र अभिषेक मंत्रिमंडल एमपी 3 डाउनलोड, रुद्राभिषेक त्रुंबकेश्वर पर पूजा लागत, त्र्यंबकेश्वर मंदिर पूजा लागत, रुद्रभिषेक पूजा की तिथियां 2018, रुद्राभिषेक पूजा समय, रुद्रभिषेक पूजा, रुद्राभिषेक के प्रकार, त्रुंबकेश्वर पर रुद्रभिषेक, त्र्यंबकेश्वर अभिषेक के समय, घर पर रुद्रभिषेक पूजा कैसे करें,महामृत्यंजय मंत्र गीत, हिंदी में मंत्रमुग्ध मंत्र, महामृत्यंजय मंत्र एमपी 3, महामृत्यंजय मंत्र लाभ, महामृत्यंजय मंत्र, अनुराधा पोडवल, महामृत्यंजय मंत्र द्वारा सुश्रुत वाडकर, महामृत्यंजय मंत्र 108 बार अनुराधा पोडवल द्वारा, महामृत्यंजय जाप, अनुशासन नियम, अनुशासन अर्थ, लघू उत्थान, नवरात्रि अनुशासन विधी, गायत्री अनुष्धन, हिंदी में अनशन विधी, कैसे उत्कर्ष, गणेश अनुष्ठान कैसे करें,महामृत्यंजय मंत्र गीत, महामृत्यंजय मंत्र द्वारा अनुराधा पोडवाल, महामृत्यंजय मंत्र एमपी 3, महाश्रित्यंजय मंत्र द्वारा सुश्रुत वाडकर, महा मृगंजंज्य मंत्र लाभ, हिंदी में महामंड्री मंत्र, महामृत्यंजय मंत्र, 108 बार अनुराधा पोडवल, अंग्रेजी में महामंडल मंत्र,त्रिंबकेश्वर में विष्णु बाली पूजा, त्र्यंबकेश्वर में योग शांति पूजा, मराठी में विश्व करण शांति, विविध करन पूजा, मराठी में विविध कारना प्रभाव, विशिराकरण शांति का लाभ, विविध करण शांति मुहूर्त, विविध करन शांति हिंदी में, विशाखार दर्शन, नक्षत्र पूजा , नक्षत्र शांति होमैम, नक्षत्र शांति पूजा, नक्षत्र शांति पूजा तेलुगु, आश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा, नक्षत्र शांति पूजा यज्ञ,ट्रिपैड नक्षत्र 2018, ट्रिपड नक्षत्र 2018, ट्रिपेड पंचक, ध्नतिता नक्षत्र शांति पूजा, विशाल शांति पूजा सूची, मातृ भाषा में वास्तु शांति पूजा, विशाल शांति पूजा की लागत, वास्तु शांति पूजा, कैसे पूजा, वास्तु शांति पूजा विधी वीडियो, वास्तु पूजा विधी पीडीएफ, विशाल पूजा मंत्र पीडीएफ, नवचंडी पूजा में मराठी, नवचंडी यज्ञ लागत, नवचंडी हवन की लागत, नवचंडी यज्ञ समाग्री, नवचंडी यज्ञ विकी, नवचंडी मंत्र, नव चैंदी हैवन विधी, नवचंडी मार्ग, उदक शांति पूजा समाधि, उदक शांति पूजा लाभ, उदक शांति पूजा विवाह में मराठी, उडका शांति पूजा, उदक शांति लागत, उदक शांति जानकारी मराठी में, उदक शांति मुहूर्त 2018, मौत के बाद उदक शांति पूजा, कुंभ विवाह परिणाम, कुंभ विवाह कारण, कुंभ विवाह वीडियो, कुंभ विवा प्रभावी है, कुंभ विवाह लागत, कुंव विवाह के लिए गैर मैंगलिक, कुंभ विवा पूजा, कुंभ विवाह करने का सही तरीका, सन्दूक विवाह को कैसे करें, हिंदी में सन्दूक विवाह पूजा, अरका विवाह विधी, अरक विवाह, कुंभ विवाह पूजा विधी में, कुंव विवाह काई कर, सन्दूक विवाह का मतलब है, श्री। महेंद्र बापूजी धरणे, श्री। निखिल महेंद्र धरणे,नवजात शिशु के लिए शांती पूजा, कृत्रिका नक्षत्र शांति पूजा, नवगठित शांति मंत्र गीत, नवग्रह्म शांति मंत्र, पीडीएफ, नवग्राह शांति पूजा, संस्कृत में नवग्रह्म शांति मंत्र, नवग्रह शांति मंत्र एमपी 3 डाउनलोड, नवगठित शांति मंत्र पीडीएफ, नवग्रह शांति स्तोत्र, नवग्रह शांति पथ, पंचक शांति में मराठी, पंचक शांति समृद्धि, पंचक शांति विधी, हिंदी में पंचक दोष निहारन, पंचक मेरी मृत्यु, पंचक मंत्र, पंचक पूजा, पंचक के दौरान मौत, त्रिपद शांति विधी, यात्रा योग, यात्रा नक्षत्र